इन 5 कारणों से नहीं मिलता आपको श्री हनुमान चालीसा पढ़ने का लाभ... - Hindi Nuskhe

इन 5 कारणों से नहीं मिलता आपको श्री हनुमान चालीसा पढ़ने का लाभ…

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी का एक बार फिर से।

दोस्तों क्या आपको भी लगता है कि हनुमान जी को आप प्रसन्न नहीं कर पा रहे हैं हनुमान चालीसा का पाठ करने से भी आप की मुश्किलें हल नहीं हो रही है कोई गलती तो नहीं हो रही है आपसे जो ज्यादातर लोग अक्सर किया करते हैं।

क्योंकि ऐसा संभव ही नहीं है कि आप हनुमान जी को मदद की गुहार लगाई और वह दौड़कर नहीं आए कई लोग कहते हैं कि हम अनेक वर्षों से हनुमान चालीसा पढ़ रहे हैं लेकिन हमें नहीं लगता कि उसका शुभ फल हमें मिल रहा है इस इच्छा पूर्ति के लिए हमने पाठ किया वह तो पूरी ही नहीं हुई।

दोस्तों हनुमान चालीसा हो या कोई अन्य पूजा अनुष्ठान सबसे जरूरी है कि आप उसे किस तरीके से किस विधि से कर रहे हैं सिर्फ पढ़ने बोलने से कुछ नहीं होता एक विधिवत तरीका होता है वह जान लेना बहुत जरूरी है कुछ चीजें अनिवार्य तो कुछ व्यस्त होती है इन नियमों का पालन किया जाए तभी उस कर्म का पूर्ण फल आपको मिलता है अगर आप हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं और अगर आपको उसका फल नहीं मिल रहा है तो ध्यान से इसको आखिर तक जरूर पढ़िएगा।

दोस्तों हनुमान जी इस कलयुग के सबसे जागृत देवता हैं उन्हें अजर अमर रहने का वरदान मिला है माना जाता है कि आज भी वे धरती पर अपने भक्तों के कल्याण के लिए विचरण करते हैं।

हमारे देश में सबसे ज्यादा मंदिर हनुमान जी के ही हैं यहां तक कि प्रभु श्री राम जी के मंदिरों से भी ज्यादा श्री हनुमान जी के मंदिर आपको दिख जाएंगे ऐसा कोई गांव कस्बा या शहर नहीं है जहां बजरंगबली का मंदिर ना हो हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए सबसे ज्यादा शीघ्र फलदाई माना जाता है।

हनुमान चालीसा का पाठ जो भक्त विधि पूर्वक सच्चे मन से श्रद्धा भाव से हनुमान चालीसा का पाठ करता है उसे कभी धन-धान्य की कमी नहीं होती हनुमान चालीसा के सरल शब्दों से हनुमान जी को बहुत जल्दी प्रसन्न किया जा सकता है हनुमान चालीसा के द्वारा मुश्किल काम को आसान किया जा सकता है हनुमान चालीसा की 40 पंक्तियां हमारी किसी भी काम को सिद्ध कर सकती हैं हनुमानजी को कभी भी हार का सामना नहीं करना पड़ा है।

इसलिए हनुमान चालीसा का पाठ श्रद्धा पूर्वक करके कोई भी व्यक्ति हनुमान जी की कृपा से हर संकट का मुकाबला कर सकता है और इसीलिए हनुमान चालीसा का पूजा पाठ में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है हनुमान जी मां दुर्गा की तरह सतर्क है हनुमान चालीसा पूरी आत्माओं के प्रभाव को दूर करता है।

कितनी भी खतरनाक और बुरी आत्मा हूं लेकिन हनुमान चालीसा से काबू में आ जाती है भक्तों को परेशान करना हमेशा के लिए छोड़ देती है आपके आसपास की नकारात्मक ऊर्जा भी दूर हो जाती है किसी भी भयंकर प्रकोप से हनुमान चालीसा हमें बचाता है हनुमान भक्तों की रक्षा करता है।

और एक बहुत ही महत्वपूर्ण चीज है आसन आसन जिस पर आप बैठ कर बात करते हैं पाठ करते समय कभी भी सीधे जमीन पर ना बैठे आसन का उपयोग करें ध्यान रखें आसन पूरी मखमल का हो तो लाल रंग का ही चुने या फिर आप कंबल ले सकते हैं पतले कपड़े के आसन पर बैठकर कभी भी कोई पूछ कर नहीं करना चाहिए नैवेद्य में आप गुड़ चना बूंदी चूरमा रख सकते हैं।

लेकिन एक बात पक्की ध्यान में रखें कि हनुमान जी के भोग में तुलसी के पत्ते जरूर होने चाहिए आप सिर्फ तुलसी के पत्तों का ही हो हनुमान जी को लगा सकते हैं हनुमान जी के सिंगार के लिए सिंदूर चमेली का तेल और एक जनेऊ काफी होता है तो अगर आप घर पर पूजा कर रहे हैं और रोज उनके आगे दीप जला रहे हैं तो थोड़ा सा चमेली का तेल सिंदूर में डालकर रोज हनुमान जी को उसका तिलक करें फिर उनके चरणों को छोड़कर अपने माथे पर तिलक लगाएं।

इस दिन पूर्ण रूप से ब्रह्मचर्य का पालन करें मांस मदिरा से दूर रहें सात्विकता बनाए रखें मन में शुद्ध विचार लाए घर के मंदिर में साफ सफाई का विशेष रूप से ध्यान रखें बिना नहाए या लघुशंका जाने के बाद पूजा ना करें अगर घर में किसी भी तरह का सूतक है तो संकल्प लें अब पाठ करने से पहले शुद्ध जल में गंगा जल मिलाकर हनुमान जी को स्नान करा देंगे या हनुमान जी और चालीसा की किताब पर जल की कुछ बूंदे अर्पित करें जब आप पहली बार पाठ शुरू करते हैं तो शनिवार या मंगलवार से इसे आरंभ करें और इसे कम से कम लगातार 40 दिनों तक करें।

आपको रोज एक बार हनुमान चालीसा का पाठ करना है अगर आप बहुत ज्यादा मुश्किल में फंसे हैं आपके शब्द रूप विरोधी बढ़ गए हैं आपको महसूस होता है कि किसी ने आप के ऊपर कुछ कर रखा है तो ऐसे में आप बजरंग बाण के तीन पाठ जरूर करें महिलाओं को बजरंग बाण का पाठ नहीं करना चाहिए किसी विशेष कामना से किसी खास फल प्राप्ति हेतु अगर आप हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहते हैं तो हम सलाह देंगे कि आप 40 दिनों तक लगातार यह पाठ करें और शनिवार या मंगलवार से ही शुरू करें।

भले आप पहले से हनुमान चालीसा का पठन करते हो लेकिन अगर विशिष्ट इच्छा पूर्ति के लिए आप यह कर रहे हो तो यह 40 दिन का अनुष्ठान आपको अलग से शुरू करना होगा और अगर आप शनिवार और मंगलवार को ही पाठ करते हैं तो 11 शनिवार और 11 मंगलवार तक जरूर करें उस 1 दिन में आपको 21 पाठ करने चाहिए और यह पाठ आपको सुबह 4:00 बजे से आरंभ करने चाहिए।

हनुमान चालीसा की चौपाइयों को शांत मन से बैठकर एक-एक पद को देख देख कर पढ़ना चाहिए इससे आप चालीसा में लिखे हर पल को अच्छे से बोल सकेंगे अब हम आपको बताते हैं हनुमान चालीसा का पाठ करते समय वह ठोस गलत ही कहां पर होती है पाठ करते समय की गई यह एक गलत ही हमें मनोवांछित फल की प्राप्ति नहीं होने देती और वह गणितीय है।

चालीसा की यह चौपाई तो आपको याद ही होगी तुलसीदास सदा हरी चेरा कीजै नाथ हृदय महं डेरा हम जब भी पाठ करते हैं तो जैसा कि उसमें लिखा हुआ है वैसे ही तुलसीदास जी का नाम लेते हैं लेकिन कभी भी तुलसीदास सदा हरी चेरा ऐसे नहीं बोलना चाहिए जैसे अगर भक्तों का नाम गणेश है तो वह बोलेगा गणेश दास सदा हरी चेरा आप जब भी चालीसा या कोई भजन गाते हैं आप चाहते हैं भगवान उसका फल आपको देंगे तो आपको पाठ में अपने नाम का उच्चारण करना चाहिए।

यह एक ऐसी गलती है जो बहुत से लोग कर देते हैं करते ही जाते हैं क्योंकि इस बारे में शायद उन्हें पता नहीं होता और फिर फल स्वरुप उस पूज्य कर्म का फल उन्हें प्राप्त नहीं होता अब से आप इस जगह पर अपना नाम लेकर हनुमान चालीसा का पाठ करें यही सही तरीका है और इस तरह से किया गया हनुमान चालीसा का पाठ आपको मनोवांछित फल प्रदान करता है पाठ के बाद चाहे गुड़ चना या जो भी नहीं भेजा आपने रखा है आप सब में बांटते।

हो सके तो किसी गाय को बंदर को गुड़िया अकेला जरूर खिलाएं इससे आपके चालीसा पाठ में पूर्णता आती है इसके अलावा किसी अनुष्ठान के शुभ फल मिलने के और भी कुछ कारण हो सकते हैं जैसे कभी-कभी लोग ईश्वर से एक चीज नहीं होते आराधना करते समय अपने विचारों में खोए रहते हैं याद रखें ईश्वर भक्ति करते समय अपना ध्यान भक्ति में ही केंद्रित करना चाहिए।

एक बात और ईश्वर भक्ति के साथ अच्छे कर्म भी करें पाप कर्मों से दूर रहे तो 40 दिनों तक इस तरह से पाठ करें और 40 में दिन आहुति देखकर संपूर्ण का पाठ करें आपकी हर कामना अवश्य पूर्ण हो जाएगी आपका हर कार्य निर्विघ्नं पूर्ण तरीके से पूर्ण होने लगेगा दोस्तों कमेंट में जय हनुमान का जयकारा जरूर लगाएं।

इसी प्रकार की अच्छी जानकारी रोजाना पढ़ने के लिए हमारे पेज हिंदी नुस्खे को अभी लाइक करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!