घर के मंदिर में यह चीज है तो तुरंत हटा दें, वरना बर्बाद हो जाएगा आपका घर... - Hindi Nuskhe

घर के मंदिर में यह चीज है तो तुरंत हटा दें, वरना बर्बाद हो जाएगा आपका घर…

नमस्ते दोस्तों, स्वागत है आप सभी का एक बार फिर से।

दोस्तों हमारी भारतीय संस्कृति में छोटी या बड़ी किसी भी तरह की पूजा को करने के कुछ निश्चित नियम निर्धारित किए गए हैं और इन नियमों का पालन करते हुए हैं हमें पूजा पाठ करना चाहिए क्योंकि तभी हमारी पूजा का कोई अर्थ होता है और हमारी आराधना का फल हमें मिलता है दोस्तों कई बार हम पूरी श्रद्धा और भक्ति से पूजा-पाठ तो करते हैं लेकिन फिर भी हमारी मनोकामना पूरी नहीं हो पाती है हमारी कष्टों का निवारण भी नहीं हो पाता है और हमें मानसिक शांति भी नहीं मिल पाती है ऐसा क्यों होता है आखिर क्यों आपको आपकी पूजा का मनोवांछित फल प्राप्त नहीं होता और आपका मन भी हमेशा अशांत रहता है।

तो दोस्तों इसका कारण यह भी हो सकता है कि आप की पूजा करने का तरीका शायद गलत हो या पूजा करते समय कुछ जरूरी चीजों को भूल रहे हैं या फिर कोई ऐसी भूल कर रहे हैं जिसकी वजह से आप की आराधना ईश्वर तक नहीं पहुंच पा रही है दोस्तों हमारे शास्त्रों में जितनी भी पूजा सामग्री बताई गई है उनमें सभी वस्तुओं की अपनी एक विशेषता और महत्व है चाहे कुमकुम हो रोली हो चावल हो कपूर हो या फिर धूप दीप और नैवेद्य इत्यादि हो जब भी हम विधि विधान से पूजा पाठ करते हैं तो इन सभी पूजा सामग्रियों का इस्तेमाल करने का एक विशिष्ट क्रम निर्धारित होता है और उसी क्रम का हमें पालन करना चाहिए।

आज हम आपको ऐसी कुछ बातें बताएंगे जो हमें पूजा करते समय हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए साथ ही भगवान श्री कृष्ण के अनुसार ऐसी बुक कौन सी चीज है जिसे पूजा घर में रखने से सुख समृद्धि और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है आइए जान लेते हैं।

पूजा करते समय सबसे पहले तो यह देखिए कि आपका मंदिर सही दिशा में है या नहीं वास्तु के अनुसार घर में मंदिर हमेशा ईशान कोण यानी उत्तर पूर्व दिशा में होना चाहिए प्रतिदिन सुबह उठकर स्नानादि से निवृत्त होकर तथा स्वच्छ कपड़े पहन कर ही नियम पूर्वक भगवान की पूजा करनी चाहिए और सुबह शाम ईश्वर के सामने एक दीपक अवश्य जलाना चाहिए मंदिर और उसके आसपास की जगह साफ-सुथरी रखें भगवान को नहला कर कुमकुम का तिलक लगाकर फूल चढ़ाने चाहिए।

हालांकि प्रत्येक घर में पूजा के नियम होते हैं उन्हीं को ध्यान में रखकर एक क्रम बद्ध तरीके से पूजा करें याद रखिए कि भगवान के नए व्यक्ति को कभी भी पूजा के पहले चक्कर झूठा ना करें और साथ ही भगवान पर चढ़ाए जाने वाले फूलों को या फिर धूप दीप अगरबत्ती तथा अन्य किसी भी पूजा सामग्री को कभी भी सुनकर नहीं देखना चाहिए यह शास्त्रों की दृष्टि से बिल्कुल सही नहीं माना जाता दोस्तों की तथा शव को लोग कभी भी और कैसे भी मजा लेते हैं लेकिन ध्यान रहे की पूजा करते समय घंटी तथा शंख को बजाने के कुछ विशेष नियम है।

हमें केवल आरती के समय ही घंटी और शंख को बजाना चाहिए इससे वातावरण की नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मक ऊर्जा में बदल जाती है दोस्तों हमारी हर पूजा में कलश का एक अलग ही महत्व होता है शास्त्रों में कलश को पूर्णता का प्रतीक माना गया है चाहे वह सत्यनारायण की पूजा हो दीपावली या नवरात्रि का पर्व हो या फिर किसी भी प्रकार का उत्सव तथा मांगलिक कार्य हो कलश की स्थापना किए बिना सभी अधूरा है।

पूजा में कलश का उपयोग देवताओं का आवाहन करने के लिए किया जाता है ईश्वर के सामने तांबे के कलश में पानी भर कर रखना इतना शुभ होता है कि यदि हम अपनी रोज की पूजा करते समय भी भगवान के सामने तांबे के कलश में पानी भरकर रखें तो उसका चमत्कारी प्रभाव हमें अवश्य देखने को मिलता है।

इसके लिए मुख्य रूप से तांबे का ही कलश ले कलर्स पर कुमकुम से स्वास्तिक चिन्ह बनाकर उस पर अक्सर चिपका है और मौली बांधने फिर कलश में शुद्ध पानी भरकर उसमें थोड़ा सा गंगाजल मिला ले कलश को भगवान के दाई और रखें फिर भगवान की पूजा करते समय कलश की भी पूजा करें फिर पूरे मन से भगवान के साथ-साथ कलश को भी नमस्कार करें और सभी पवित्र नदियों का आवाहन करें।

यह कलर और इसमें भरा हुआ पानी दूसरे दिन की पूजा तक ऐसा ही रहने दें और फिर पूरे घर में छिड़ककर बचा हुआ पानी तुलसी के क्यारी में डालते हैं यकीन मानिए इस अभिमंत्रित जल से दिनभर एक सकारात्मक ऊर्जा निकलती रहती है जिसके चमत्कार की वजह से आपका पूरा घर अद्भुत शांति से भर जाएगा।

इसके पीछे शास्त्रों में अनेकों कारण बताए गए हैं शास्त्रों में कलश को सुख और समृद्धि का प्रतीक माना गया है जिस प्रकार जल ही जीवन है और कलश में हम जो जल भरकर रखते हैं उसकी पूजा करने से हमारा घर और आसपास का वातावरण भी जीवन से भरपूर और सुख समृद्धि से भर जाता है तो दोस्तों रोजाना आप भी अपने मंदिर में कलश में पानी भरकर अवश्य रखें आपको इसका अवश्य लाभ होगा।

दीपक जलाने के कितने ज्यादा फायदे आपको अपने जीवन में मिलते हैं और किस प्रकार आपको दीपक जलाना चाहिए कौन सी दिशा में जिससे आप बहुत ज्यादा तरक्की प्राप्त कर सकें और अपने जीवन में सभी बाधाओं को खत्म कर सकें सबसे पहली बात तो आप को ध्यान में रखनी चाहिए कि अपने घर के मंदिर में रोजाना ही आपको दीपक जलाना चाहिए कभी भी ऐसा नहीं होना चाहिए कि आपने दीपक ना जलाया हो क्योंकि घर के मंदिर में रोजाना दीपक जलाना बहुत ही जरूरी होता है।

इसी से आपके घर से सभी नेगेटिव एनर्जी बाहर निकलती है अगर आप कोई भी दीपक नहीं जलाते हैं घर के मंदिर में या अपने घर में शाम के समय तो इससे आपके घर का वातावरण बहुत ज्यादा नेगेटिव तो होता ही है आपके घर की परेशानी भी बहुत ही ज्यादा बढ़ने लगती है घर का जो मुखिया होता है उसे बहुत ही ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है इसकी वजह से परेशानी डिप्रेशन और टेंशन में घर का मुखिया पहुंच जाता है।

शाम का समय हिंदू धर्म में बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है और जो लोग शाम के समय कभी भी घी का दीपक या फिर तेल का दीपक अपने घर में नहीं जलाते हैं तो उनके घर में हमेशा ही मुसीबत बनी रहती है यानी कि एक मुसीबत से निकलते हैं तो दूसरी मुसीबत में उससे पहले ही फस जाते हैं और हमेशा ही धन की समस्याएं परेशानियां बढ़ती रहती है उनके जो बच्चे होते हैं वह भी उनके खिलाफ होने लगते हैं उनका कहना बिल्कुल भी नहीं मानते हैं इस तरह से घर का पूरा माहौल ही दुख पूर्ण होने लगता है।

काफी लोग इन चीजों को मानते भी है लेकिन जानते हुए भी उपाय कर नहीं पाते हैं भूल जाते हैं उन्हें इन चीजों से होने वाले नुकसान के बारे में पता नहीं होता है इसलिए रोजाना आपको एक घी का दीपक या फिर तेल का दीपक जलाना बहुत ही जरूरी है अगर आप नहीं जला सकते हैं तो कोई और व्यक्ति भी आपके घर में दीपक जला सकता है लेकिन रोजाना दीपक जलाना बहुत ही जरूरी होता है इसी से आपकी सभी निगेटिव एनर्जी आपके घर से हमेशा बाहर रहती है।

दोस्तों शाम का समय ऐसा होता है जिस समय नकारात्मक उड़ जाएं बहुत ही ज्यादा प्रबल होती है और आपके घर में प्रवेश कर जाती है ऐसे में अगर आप घर में या घर के मंदिर में दीपक नहीं जलाते हैं तो नेगेटिव एनर्जी आपको बहुत ही ज्यादा परेशान करती है आपकी सभी काम बिगड़ने लगती है जिस समय सूरज डूब जाता है उसी समय यह नेगेटिव एनर्जी बहुत ही ज्यादा प्रबल हो जाती है उसी समय आपको मुंह हाथ धोकर दीपक जलाना चाहिए अगर आप खुद नहीं कर सकते हैं तो कोई और व्यक्ति भी आपके लिए ऐसा कर सकता है।

अब दोस्तों जिस घर में बहुत सारे लोग बीमार रहते हैं या फिर बीमारी कभी भी ठीक नहीं होती है तो यह भी एक संकेत होता है कि आपके घर में बहुत ही ज्यादा नकारात्मक उर्जा ए हैं जो परेशानियों को बीमारी को मुसीबत को बहुत ही ज्यादा बढ़ा रही है इन सभी चीजों को खत्म करने के लिए आपको अपने घर में जब सूरज ढल जाता है तो उस समय घी का दीपक या फिर सरसों के तेल का या तिल के तेल का दीपक जी पूर्व दिशा में आग जला सकते हैं लेकिन रोजाना इन चीजों को करना बहुत ही जरूरी है तभी आपको इसके लाभ मिल पाते हैं।

अगर आपके घर में धन से जुड़ी समस्या नौकरी या व्यवसाय से जुड़ी हुई समस्या बहुत ही ज्यादा होती है तो आपको अपने घर के उत्तर दिशा में रोजाना ही घी का दीपक जलाना चाहिए इसे एक भी दिन आप मिस ना करें अगर रोजाना आप उत्तर दिशा में घी का दीपक जलाते हैं तो इससे आपकी धन से जुड़ी हुई समस्याएं खत्म हो जाती है जिन लोगों को नौकरी नहीं मिलती है उनको भी नौकरी मिलने लग जाती है अगर वही व्यक्ति जिसको परेशानी है वही रोज दीपक जलाता है तो इससे मिलने वाले फायदे और भी ज्यादा हो जाते हैं शाम के समय घी का दीपक या तेल का दीपक जलाना बहुत ही जरूरी होता है आप कभी भी इन चीजों को नजरअंदाज ना किया करें क्योंकि इन्हीं से आपके जीवन में परेशानियां बढ़ जाती है और आपको मुसीबत का सामना करना पड़ता है।

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि जो भी घी का दीपक आप जलाते हैं उससे जो निकलने वाली ऊर्जा होती है वह आपके घर में जब फैलती है तो इससे घर का माहौल एकदम से सुख में बनने लगता है यानी कि पॉजिटिव होने लगता है घर के सभी लोग शांति से रहने लगते हैं इसी प्रकार से जो तेल का दीपक होता है यह भी जब चलता है तो इससे आप के आस पास जितनी भी नकारात्मक उर्जा है वह खत्म हो जाती है।

क्योंकि इन दीपक कौन से निकलने वाली जो उड़ जाएं होती है धुआं होता है वह नेगेटिव एनर्जी को बाहर निकालता है और आपके आसपास के एनर्जी को पॉजिटिव बनाता है तो यह बहुत ही जरूरी चीजें हैं शाम के समय कभी भी आप इन चीजों को मिस ना किया करें तभी आप अपने जीवन में सफलता पा सकते हैं और आप की जितनी भी मनोकामनाएं है वह भी पूरी होती है आज के लिए बस इतना ही।

इसी प्रकार की अच्छी जानकारी रोजाना पढ़ने के लिए हमारे पेज हिंदी नुस्खे को अभी लाइक करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!